Short Story In Hindi

Short Story In Hindi



Today we are writing Short Story In Hindi. These Short Story In Hindi are for everyone but more especially for kids. These Short Story In Hindi may also helpful for all. Like:- Kids, Parents, Elders, and Teachers to teach Kids.


List of Hindi Short Stories which we are writing is Here ⬇️


  • Moral Values Short Story In Hindi - 
  • Mehnat Ka Fal Short Story In Hindi -
  • Maali KaKa Short Story In Hindi -
  • Maa Ki Pyaari Sikh Short Story In Hindi -
  • Ant and Dove Short Story In Hindi - 


Today we are writing 5 Hindi Short Story below. I hope you will like all the stories.


1. Moral Values Short Story In Hindi

Short Story In Hindi
(Short Story In Hindi)


अशोक सातवीं कक्षा का छात्रनायक था। स्कूल के नियमानुसार, सभी छात्रों की सुबह प्रार्थना पर उपस्तिथि अनिवार्य थी। अनुपस्तिथ छात्र को कठोर ढंड मिलता था। उस दिन अशोक ने देखा कि मुरली प्रार्थना के समय उपस्तिथ नहीं था। तो वह कक्षा में जा कर मुरली से पूछता है। 

अशोक:- मुरली, तुम प्रार्थना के लिए क्यों नहीं आये ? तुम्हे तो पता है, हमारे अध्यापक कितने सख्त है। 


इससे पहले मुरली कोई जवाब दे पाता, अध्यापक कक्षा में आ गए। 

अध्यापक:- अशोक, सुबह प्रार्थना के लिए सभी उपस्तिथ थे ना ?

अशोक:- हां सर, सिवाए मुरली के सभी उपस्तिथ थे। 

अध्यापक:- ये क्या मुरली ? अशोक क्या कह रहा है ? तुम प्रार्थना में नहीं आये ?

मुरली:- हां सर। 


सारे छात्र मुरली को सज़ा होने की प्रतीक्षा कर रहे थे। मुरली का स्वभाव और आचरण अच्छा था। वो पढ़ाई में भी बहुत अच्छा था। उसकी लिखाई साफ़ और सुन्दर थी, वह अपनी किताबे बहुत ही अच्छी तरह से रखता था, इसलिए कुछ लड़को को छोड़कर सभी मुरली से बहुत जलते थे। 

अध्यापक:- मुरली, तुम जानते हो, प्रार्थना के लिए उपस्तिथ न  रहने वाले को कड़ी सजा होती है। लेकिन सजा देने से पहले मैं जानना चाहता हुँ कि तुम प्रार्थना के लिए क्यों नहीं आये ?

मुरली:- सर मैं कक्षा में वक़्त पर आया था, लेकिन सभी प्रार्थना के लिए निकल चुके थे। मैं अपनी किताबे रखकर निकलने ही वाला था, पर मैंने देखा कि कक्षा में सभी जग़ह कूड़ाकचरा पड़ा हुआ था। सारी कक्षा गन्दी हो गयी थी। सर आपने ही तो बोला था ना कि स्वच्छता ही भगवान है। हमारी कक्षा के स्वच्छता प्रमुख ने अपना काम ठीक तरह से नहीं किया था इसलिए मैंने पूरी कक्षा साफ़ कर दी पर मैं प्रार्थना के लिए नहीं पहुँच पाया। सर आपने ही तो सिखाया है ना कि कोई भी काम हीन दर्ज का नहीं होता, इसलिए मैंने यह काम खुद किया। अगर मैंने कुछ गलत किया है तो कृप्या मुझे श्र्मा कर दीजिये। मैं सज़ा के लिए तैयार हुँ। 

अध्यापक:- मुरली, तुमने तो बहुत अच्छा काम किया है अगर हर बच्चा तुम्हारे जैसे विचार रखे और कार्य करे तो हमारा स्कूल आदर्श स्कूल बन सकता है। मुझे गर्व है कि तुम मेरे छात्र हो। तुम्हे कोई सज़ा नहीं मिलेगी। 


अध्यापक ने मुरली का गौरव किया। जिससे एक बार फिर वह सभी छात्रों के लिए आदर्श छात्र बना। 


इस हिंदी शॉर्ट स्टोरी की सीख़:- कोई भी अच्छा काम छोटा नहीं होता। 

Moral of This Short Story In Hindi:- Good work is never small.





2. Mehnat Ka Fal Short Story In Hindi


Short Story In Hindi
(Short Story In Hindi)



दो जिगरी दोस्त थे। संजय और मनोज। दोनों ही बेरोज़गार थे। उन्होंने अपने परिचित गुरु जी से अपनी परेशानी बताई और कहा, 

दोनों:- गुरु जी, हमे कुछ रुपये  दीजिए, जिससे हम कुछ काम-धंधा शुरू कर सके। 


गुरु जी ने दोनों दोस्तों को एक-एक हज़ार रूपये दिए। साथ ही कहा:-

गुरु जी:- एक साल के अंदर तुम्हे इन रुपयों को लौटाना होगा। 


दोनों ने गुरु जी की बात मान ली। फिर वो रूपये ले कर चल पड़े। रास्ते में संजय ने कहा:- 

संजय:- हमे इन रुपयों से कोई अच्छा काम शुरू करना चाहिए। 

मनोज:- नहीं, अब हम कुछ दिन अच्छे स्थानों पर घूमने जायेंगे, मौज करेंगे। 


एक साल बीत जाने के बाद दोनों दोस्त गुरु जी के पास पहुँचे। गुरु जी ने पहले मनोज से पूछा:-

गुरु जी:- तुमने रुपयों का क्या किया ? क्या लौटाने के लिए रकम लाये हो ?

मनोज:- गुरु जी, किसी ने धोखा देकर वो रूपये ठग लिए। 

गुरु जी:- संजय, क्या तुम भी खाली हाथ आये हो ?

संजय:- नहीं गुरु जी, ये लीजिये आपके एक हज़ार रूपये और अतिरिक्त एक हज़ार रूपये। 

गुरु जी:- तुम इतने रूपये कैसे कमा लाये ? क्या तुमने किसी को धोखा दिया है ?

संजय:- जी नहीं, मैंने तो अपनी सूझ-बूझ और मेहनत से ये रूपये कमाए है। एक किसान को परेशान देख कर मैंने उसके सारे फल खरीदे लिए फिर उन्हें शहर में जा कर बेच दिया। इसके बाद वह प्रतिदिन मुझे फल ला देता और मैं उन्हें बेच देता। कुछ दिनों के बाद मैंने शहर में दूकान ले ली और फलों का कारोबार शुरू किया। 


इतना कह कर उसने गुरु जी को मदद करने के लिए धन्यवाद दिया और अतिरिक्त रूपये किसी ज़रूरतमंद को देने के लिए रखने का आग्रह किया। गुरु जी संजय से बहुत खुश हुए और उन्होंने मनोज को कहा:- 

गुरु जी:- अगर तुम भी समझदारी और मेहनत से काम करते तो सफल हो सकते थे। 

संजय:- मनोज, अभी भी कुछ नहीं बिगड़ा है। समय का सम्मान करो और श्रम का महत्त्व समझो। सफलता तुम्हारे कदम चूमेगी। 


इस हिंदी शॉर्ट स्टोरी की सीख़:- समय का सम्मान करो और श्रम का महत्त्व समझो। सफलता अवश्य मिलेगी। 

Moral of This Short Story In Hindi:- Respect time and understand the importance of labor. Success will definitely come to you.





3. Maali KaKa Short Story In Hindi 


Short Story In Hindi
(Short Story In Hindi)



एक थे माली काका। वो बगीचे में पौधा लगा रहे थे। उसी समय उस नगर का राजा उधर से जा रहा था। राजा भेष बदल कर जनता का हाल जानने निकला था। राजा ने देखा कि माली काका ने बड़ी लगन से पौधा लगाया। वह बूढ़े हो चुके थे, फिर भी पौधा लगा रहे थे। यह देख कर राजा को आश्चर्य हुआ। मन-ही-मन वह सोचने लगा 

राजा:- कब यह पौधा बड़ा होगा ? कब यह फल देगा ? जब फल देगा, तब तक क्या माली ज़िंदा रहेगा ?


राजा माली काका के पास गया और उनसे पूछा:- 

राजा:- तुम किस चीज़ का पौधा लगा रहे हो ?

माली काका:- नारियल का। 

राजा:- इसमें फल कब लगेंगे ?

माली काका:- पंद्रह वर्षो के बाद। 

राजा:- क्या तुम इतने दिनों तक जीवित रह पाओगे ?

माली काका:- नहीं, लेकिन मेरे बेटे-बेटियाँ और नाती-पोते तो इसके फल खाएँगे। 

राजा कुछ और पूछता उसके पहले ही माली काका ने हसकर कहा:-

माली काका:- अरे भाई ! मैं भी तो अब तक अपने बाप-दादा के लगाए पेड़ो के फल खा रहा हुँ। वह देखो, वह जो अखरोट का पेड़ है, उसे मेरे दादा जी ने लगाया था। 


राजा मन-ही-मन प्रसन्न हो कर लोट गया। अगले दिन उसने माली काका को दरबार में बुलाया और ढेर सारे इनाम दिए। 


इस हिंदी शॉर्ट स्टोरी की सीख़:- जो दुसरो की भलाई के बारे में सोचता है, वह महान होता है। 

Moral of This Short Story In Hindi:- That man is great who thinks about others. 





4. Maa Ki Pyaari Sikh Short Story In Hindi 


Short Story In Hindi
(Short Story In Hindi)


चेतन अपनी माँ के साथ एक बहुत अच्छे घर में रहता था। वह बहुत अच्छा लड़का था और सदा अपनी माँ का कहना मानता था। चेतन की माँ बहुत अच्छे पकवान बनाती थी। चेतन को पकवान खाना बहुत पसंद था। एक दिन चेतन की माँ ने बहुत बढ़िया कुकीज़ बनाकर एक बड़े जार में रख दी और फिर बाजार चली गयी। बाजार जाने से पहले चेतन की माँ उसको कह गयी थी कि अपना ग़ृह-कार्य समाप्त करने के बाद वह कुकीज़ खा सकता है। 

चेतन बहुत खुश हुआ। उसने जल्दी से अपना ग़ृह-कार्य समाप्त करके, अपनी माँ के लौटने से पहले ही कुकीज़ खानी चाही। इसलिए वह एक स्टूल पर चढ़ गया। फिर उसने जार के अंदर हाथ डाल कर ढेर सारी कुकीज़ निकालने की कोशिश की, पर जार का मुँह छोटा होने के कारण वह अपना हाथ बाहर नहीं निकाल सका। 

उसी समय उसकी माँ बाजार से लौट आयी। जब उसने चेतन को देखा तो वह हसने लगी और उसने अपने बेटे से कहा:-

माँ:- चेतन, हाथ से ढेर सारी कुकीज़ छोड़कर, केवल दो या तीन कुकीज़ हाथ में पकड़ कर हाथ बाहर निकालो। 


माँ की बात मानकर, जब उसने सिर्फ दो कुकीज़ हाथ में पकड़ी, तब वह आसानी से अपना हाथ बाहर निकाल सका। तब उसकी माँ ने प्यार से कहा:- 

माँ:- ऐसा करने से तुमने क्या सीखा ?

चेतन:- मैंने सीखा है कि किसी भी चीज़ का लालच अच्छी बात नहीं है। हमे हर चीज़ उतनी ही लेनी चाहिए जितनी हमे ज़रूरत हो। 


इस हिंदी शॉर्ट स्टोरी की सीख़:- किसी भी चीज़ का लालच अच्छी बात नहीं है। हमे हर चीज़ उतनी ही लेनी चाहिए जितनी हमे ज़रूरत हो। 

Moral of This Short Story In Hindi:- Greed of anything is not a good thing. We should take everything as much we need.





5. Ant and Dove Short Story In Hindi 


Short Story In Hindi
(Short Story In Hindi)


एक समय की बात है। पेड़ पर से एक चींटी तालाब में गिर गयी। एक कबूतर ने उसे अपना जीवन बचाने के लिए जी-तोड़ कोशिश करते हुए देखा। उसने एक पत्ते को तोडा और चींटी के पास फेक दिया। चींटी झट से पत्ते पर चढ़ गयी और बड़ी कृतग्यता भरी नज़रो से उसने कबूतर का धन्यवाद किया। वह बहुत थक गयी थी। 

कुछ हफ्तों बाद की बात है। एक बहेलिया जंगल में आया। बहेलियों का तो काम ही होता है पक्षियों को पकड़ना। उसने कुछ दाने ज़मीन पर फेके और उस पर अपना जाल बिछा दिया। वह चुप-चाप किसी पक्षी के जाल में फसने का इंतज़ार कर रहा था। वे चींटी जब वही कहीं से गुज़र रही थी, उसने जब वह सारी तैयारी देखी तो क्या देखती है कि वहीं कबूतर जिसने उसकी जान बचाई थी, उड़कर उसी जाल में फसने के लिए धीरे-धीरे नीचे उतर रहा था। 

चींटी ने एक दम आगे बढ़ बहेलिये के पैर पर इतनी बुरी तरह काट दिया कि बहेलिये के मुँह से चीख़ निकल गयी। 

बहेलिया:- ओह! तेरी ऐसी-की-तेसी। हाय! ओह परमात्मा। 


कबूतर ने एक-दम दिखा कि शोर किधर से आ रहा है, और बहेलिये को देखते ही सब-कुछ उसकी समझ में आ गया। वह दूसरी दिशा में उड़ गया और उसकी जान बच गयी। चींटी भी अपने काम पर चल दी। 


इस हिंदी शॉर्ट स्टोरी की सीख़:- कर भला सो हो भला। 

Moral of This Short Story In Hindi:- Good Be Good.



I hope you like all Moral Stories In Hindi. Tell us which story you like the most. If you really like these stories and fount that the moral of the stories are very nice so please comment below. ⬇️

Thank You. 😊


हमें उम्मीद है कि आपको सभी कहानियाँ बहुत अच्छी लगी होगी। हमे बताइयेगा कि आपको सबसे अच्छी कहानी कोनसी लगी। अगर आपको यह कहानियाँ अच्छी लगी और आपको लगता है कि सभी की सीख़ हमारे जीवन को सुधारने के लिए अच्छी तो तो प्लीज निचे कमैंट्स ज़रूर करना। 

धन्यवाद। 😊


Also Visit :- Hindi Story.

Post a Comment

Please do not enter any spam link in the comment box.