Panchatantra Short Stories In Hindi With Moral

Panchatantra Short Stories In Hindi With Moral


Panchatantra Short Stories In Hindi With Moral
(Panchatantra Short Stories In Hindi With Moral)

Hello,

Today we have a tendency to ar writing Panchatantra short stories in Hindi with moral. These Panchatantra Stories In Hindi can assist you in your life. These Panchatantra Short Stories In Hindi With ethical ar for everybody. notwithstanding you're a child, or elder, or parent or teacher. If you're a tutor thus you'll teach your students equivalent morals.

Have Fun!


नमस्कार,

आज हम पंचतंत्र लघु कथाएँ हिंदी में मोरल के साथ लिख रहे हैं। ये पंचतंत्र कहानियां हिंदी में आपको अपने जीवन में मदद करेगी। ये पंचतंत्र लघु कथाएँ हिंदी में मोरल के साथ सभी के लिए हैं। कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप एक बच्चे, या बड़े, या माता-पिता या शिक्षक हैं। यदि आप एक शिक्षक हैं तो आप अपने छात्रों को समान नैतिकता सिखा सकते हैं।

मज़े करो!


We are writing 3 Panchatantra Short Stories In Hindi With Moral Here. ⬇️


  • Ghamndi Saap Panchatantra Short Stories In Hindi With Moral
  • Sone Ki Chidiya Panchatantra Short Stories In Hindi With Moral
  • Kisaan Ki Gaay Panchatantra Short Stories In Hindi With Moral



Ghamndi Saap - घमंडी साप
Panchatantra Short Stories In Hindi With Moral


Panchatantra Short Stories In Hindi With Moral
(Panchatantra Short Stories In Hindi With Moral)


एक समय की बात है। एक पेड़ के एक बिल में एक साँप रहता था। वो मेंढक, अंडे और पंछियों को खाता था। वो दिन में सोता और रात में शिकार करता था। कुछ दिन बाद वो साँप बड़ा हो गया और उस बिल में ना घुस पाया तो उसने सोचा कि अब वो अपना ठिकाना बदलेगा। 


अपने नए घर की तलाश करते हुए उसे एक बरगद के पेड़ पर एक बड़ा-सा बिल दिखा। उस पेड़ के नीचे चीटियों की पहाड़ी थी। साँप पेड़ के पास आया और बोला:-

साँप:- अब से इस पेड़ पर मैं रहूंगा। तुम सब को इस जगह से तुरंत जाना होगा। 


उस पेड़ के आस-पास रहने वाले सभी जानवर और पँछी बहुत डर गए थे, मगर चीटियों को कोई फ़र्क़ नहीं पड़ा था। वो पहाड़ी उन्होंने बहुत मेहनत से बनाई थी। सभी चीटिया एक जुट हो कर आगे बढ़ी और उस साँप को चारो तरफ से घेर लिया और उसे काटने लगी।

साँप को बहुत दर्द हुआ और चिल्लाता हुआ वह से भाग गया। उसके बाद वो वहाँ कभी वापिस नहीं आया। फिर तभी से सारे पँछी और जानवर वहाँ ख़ुशी से रहने लगे। 


कहानी की सीख़:- खुद को कभी सर्वश्रेष्ठ मत समझो। चींटी सबसे छोटी होती है किन्तु वो अपने दुश्मनो को सबक सिखाना अच्छे से जानती है। 

Moral of this Panchatantra Short Story:- Never consider yourself the best. The ant is the youngest, but she knows how to teach her enemies a lesson.





Sone Ki Chidiya - सोने की चिड़िया
Panchatantra Short Stories In Hindi With Moral


Panchatantra Short Stories In Hindi With Moral
(Panchatantra Short Stories In Hindi With Moral)


एक बार एक पहाड़ की चोटी पर एक विशाल वृक्ष पर सिंधुका नाम का एक विशेष पक्षी रहता था। पक्षी की खासियत यह थी कि जब उसकी बूँद धरती पर गिरती थी तो वे शुद्ध सोने में बदल जाती थी। वह इस पेड़ पर अकेले रहता था और शान्ति से वहाँ अपना जीवन व्यतीत कर खुश था। 

एक दिन एक शिकारी पक्षियों की तलाश में पहाड़ की छोटी पर घूम रहा था। कई घंटो के बाद जब वह किसी पक्षी को पकड़ने में सक्षम नहीं था तो उसने विशाल वृक्ष के नीचे कुछ देर विश्राम करने का सोचा। उसी वृक्ष पर सिंधुका रहता था। बस जब शिकारी सोने लगा ही था तो पक्षी ने अचानक पेड़ के ऊपर से अपनी बूँद को गिरा दिया जो धरती पर गिरते ही सोने में बदल गयी। 

शिकारी के चेहरे के ठीक बगल में ही सोने का टुकड़ा गिरा। जब उसने देखा तो उसने चिड़िया की ओर देखा फिर से एक और बूँद गिरी और इस बार शिकारी ने ज़मीन पर इसे सोने में बदलते देखा। इस सब ने शिकारी को बहुत हैरान कर दिया था। शिकारी सोचने लगा:- 

शिकारी:- मैं कई वर्षो से पक्षियों को पकड़ रहा हुँ, लेकिन कभी भी ऐसा पक्षी नहीं देखा या यहाँ तक की ऐसे पक्षी के बारे में सुना भी नहीं जिनकी बूँद सोने से बदल जाती है। यह निश्चित रूप से एक विशेष पक्षी है जिसे मुझे पकड़ना है। 


दुःख की बात यह थी कि जब शिकारी ने ऐसा सोचा तो सिंधुका को उसके बारे में पता नहीं था। वह अपने पेड़ पर आराम कर रहा था और शिकारी योजना बना रहा था। शिकारी ने पेड़ पर एक जाल बहुत सावधानी से बिछा दिया, जब पक्षी ध्यान नहीं दे रहा था और अंत में जाल में फस गया। 

जब पक्षी जाल में फस गया तो शिकारी ने उसे एक पिंजरे में डाल दिया और घर की ओर जाने लगा। उसी समय सिंधुका ने सोचा कि जाल पर ध्यान ना देने के लिए वह कितना लापरवाह था और इसी कारण से बिचारा पकड़ा गया। अपने घर जाते वक़्त शिकारी ने सोचा:- 

शिकारी:- अगर मैं इस पक्षी को रखूंगा तो मैं अमीर बन जाऊंगा और सभी को कि कुछ तो गड़बड़ है। किसी दिन किसी को पक्षी की सच्चाई पता चलेगी और फिर वो राजा को पक्षी के बारे में बताएंगे। फिर मुझे इसको राजा को देना होगा, लेकिन अगर मैं पक्षी को सीधे ही राजा के सामने पेश करता हुँ। तो वह मुझे इस पक्षी के बदले कुछ कीमती चीज़ देंगे। यह मेरे लिए बेहतर काम करेगा। मैं अपना शेष जीवन राजा की दी गयी वस्तु के सहारे जी सकता हुँ। 


योजना के अनुसार वह सीधा राजा के महल में गया और राजा को सारी बात बताई। उसने राजा को पक्षी दिखाया और राजा एक ऐसे विशेष पक्षी को देख कर बहुत खुश हुआ, जिसकी बूँद सोने में बदल जाती है। उसने अपने नौकर को बुलाया। 

राजा:- इस पक्षी की उचित देख-भाल करो। उसे एक शानदार पिंजरे में रखो और उसे भरपूर भोजन और पानी दो। सुनिश्चित करे कि मैं दूर नहीं हुँ। वह महल का शाही पक्षी होगा और अपनी बूंदो से मुझे कई दौलत देगा। 


अचानक राजा के मंत्रियों में से एक राजा के पास पहुँचा। 

मंत्री:- राजा जी, एक पक्षी की बूंदे सोने में कैसे बदल सकती है। ये तो असंभव है। आप इस राह चलते शिकारी पर कैसे भरोसा कर सकते है, जिसे कोई ज्ञान नहीं है। मैं आपसे अनुरोध करता हुँ कि आप पिंजरे को खोले और दूर जाने दे और इस शिकारी को ऐसी झूठी जानकारी देने के लिए दंडित करे। 


राजा ने अपने विश्वसनीय और बुद्धिमान मंत्री के शब्दों पर विचार किया। 

मंत्री:- कोई पक्षी सोने की बूंदे कैसे दे सकता है। मैंने इसे अपनी आँखों से भी नहीं देखा। यह शिकारी शायद बदले में पैसे चाहता है। 


राजा ने पहरेदारो को शिकारी को गिरफ्तार करने और पक्षी को छोड़ने का आदेश दिया। जैसे ही पक्षी मुक्त हुआ, वह उड़ कर पास के एक दरवाज़े के शीर्ष पर पहुँच गया और वहाँ बैठ गया। अचानक उसने अपनी बूंदो को गिराया जो सोने में बदल गयी। 

राजा और उनके मंत्रियों सहित सभी ने ये देखा और चौक गए। राजा को पता था कि उसने एक गलती की है और तुरंत अपने पहरेदारो को पक्षी को पकड़ने का आदेश दिया। मगर बहुत देर हो चुकी थी। सिंधुका आकाश में उड़ गया और उसने खुद को फिर से लापरवाह ना होने का वादा किया। 

उसने दूर पहाड़ पर एक नए स्थान के लिए उड़ान भरी जहाँ कोई भी उसे फिर से पकड़ ना पाए। 


कहानी की सीख:- चाहे कुछ भी कितना भी असंभव लगे। हमे उसकी पूरी तरह से जाँच करनी चाहिए। 

Moral of this Panchatantra Short Story:- No matter how impossible it seems. We should examine it thoroughly.




Kisaan Ki Gaay - किसान की गाय
Panchatantra Short Stories In Hindi With Moral


Panchatantra Short Stories In Hindi With Moral
(Panchatantra Short Stories In Hindi With Moral)


एक समय की बात है। एक छोटे से गांव में धर्मपाल नाम का एक किसान रहता था। किसान खेती-बाड़ी करके खुद फसल उगाता था। उसके पास कुछ पशु भी थे जैसे - मुर्गी, सूअर, बकरा और एक बड़ी-सी गाय जिसको वो बहुत ज़्यादा पसंद करता था। 

गाय से उसको काफी प्यार था क्योंकि वो हर रोज़ बहुत सारा दूध देती थी। किसान की कमाई ज़्यादातर दूध से ही होती थी तो वो चाहता था कि गाय हमेशा स्वस्थ रहे। एक दिन जब किसान खेत में काम कर रहा था तो उसका बेटा रोते हुए उसके पास आया। 

बेटा:- बापू, बापू, जल्दी आइये। 

किसान:- क्या हुआ बेटा ? 

बेटा:- गइया बीमार हो गयी है शायद। ज़मीन पर पड़ी है और अजीब आवाज़े निकाल रही है। दूध भी नहीं दे रही है। 


किसान और उसका बेटा तुरंत घर की और गए तो देखा गइया बहुत कमज़ोर लग रही थी। जब दूध निकलने की कोशिश की तो दूध भी नहीं निकला। किसान बहुत ही परेशान हो गया और सोचने लगा:- 

किसान:- अगर ये दूध नहीं देगी तो मैं क्या करूंगा। बिना दूध के तो ये बेकार है मेरे लिए। हर बार इसके लिए दवाई और देख-रेख करने का समय नहीं है मेरे पास। कुछ-ना-कुछ करके इससे छुटकारा ही पाना पड़ेगा। 


किसान को लगा की अब गाय ठीक नहीं हो पायेगी तो उसको खड़ा करके वन की और चलाते गया। गाय ने बहुत दूध और अब वो उसके लिए बेकार हो चुकी थी। जंगल के भीतर पहुँचने के बाद किसान ने गाय को खुला छोड़ दिया और वहाँ से चला गया। 

बेचारी गइया अकेले और असाये खड़ी रही। थोड़ी देर बाद गाय जंगल से डरने लगी और वहाँ से निकलने का रास्ता ढूंढ़ने लगी। वो अपनी हिम्मत जुटा कर चलने लगी। बहुत देर बाद आखिरकार वह खुली जगह पर पहुँच गयी पर उसको पता ही नहीं था कि वो कहाँ आ गयी। 

अचानक से उसने एक छोटा-सा घर देखा और जल्दी उसकी ओर चलने लगी। घर तक पहुँचते ही वो थकावट से बेहोश हो कर गिर पड़ी दरवाज़े के पास। यह एक गरीब आदमी मधु का घर था। सुबह सवेरे मधु घर से बाहर आया तो उसने गइया को देखा। गइया बहुत बीमार लग रही थी और मधु को उसकी यह हालत देख कर बहुत दुःख हुआ। उसने अपनी पत्नी को बुलाया मदद के लिए। 

मधु:- ओ, सुनती हो। यह गइया बहुत बीमार लग रही है। इसका ख्याल रखना पड़ेगा। मेरे पास कुछ घास और चावल है जो ये खा सकती है। 


मधु के पास जो कुछ भी था खाने को वो ले आया और गइया के सर पर गिला कपड़ा रखा। मधु और उसकी पत्नी ने बहुत दिनों तक गइया का ख्याल रखा और धीरे-धीरे गइया ठीक होने लगी। जल्द ही गाय अपने आप चलने लगी। मधु गइया से बाते करता था रोज़ उसे खिलाते हुए। गइया को भी मधु से बहुत लगाव हो गया। 

एक दिन जब मधु घर के बाहर सफाई कर रहा था तब गइया उसके सामने आ गयी। उसने अपना पैर ज़ोर से ज़मीन पर पटका और मज़बूती से खड़ी हो गयी। पहले मधु को समझ नहीं आया लेकिन फिर उसको लगा की शायद वो दूध देना चाहती है। 

मधु एक मटका लाया और गइया का दूध निकालने लगा। इतना सारा दूध देख कर मधु ख़ुशी से झूम उठा। जल्दी-से उसने अपनी पत्नी को दिखाया। 

मधु:- देखो क्या हुआ आज। गऊ माता ने दूध दिया है। हम इसको बेच कर अच्छा पैसा कमा सकते है। 

पत्नी:- ये तो कमाल हो गया जी। प्रभु ने हमारी प्रार्थना सुन ली। ठीक है। आप जल्दी बाजार जाइये और इसको बेच कर पैसे ले आइये। आज रात हम घर पर दावत करेंगे। 


मधु बाजार जाता है और दूध बेच कर अच्छा पैसा कमाया। उसने भगवान को धन्यवाद किया उसको गइया देने के लिए। मधु दूध बेचने लगा और जल्दी ही शुद्ध दूध  मशहूर हो गया। गांव वालो को अब केवल उसी का दूध चाहिए था जिसके लिए अच्छी रकम भी दिया करते थे। इस बात की खबर किसान तक पहुँच गयी। 

किसान:- मेरी गइया चुराने की हिम्मत कैसे हुई इसकी ? और अब वह अच्छे पैसे कमा रहा है। मैं अभी जा कर उसे वापिस लूंगा। वो तो मेरी गाय है। 


धर्मपाल गया मधु के घर। 

धर्मपाल:- मैंने सुना कि मेरी गइया तुम्हारे पास है और तुम उसका दूध बेच रहे हो। ये तुम्हारी नहीं है। दे दो मुझे वापिस। 

मधु:- यह सच नहीं है। गाय बहुत बीमार थी और मरने वाली थी। तुमने इसका ख्याल नहीं रखा पर मैंने इसको ठीक किया है। वो अब मेरी है। तुम गाय को वापिस नहीं ले सकते हो। 

धर्मपाल:- मैं चुप-चाप नहीं बैठने वाला। ग्राम-प्रधान के पास जा कर उनसे बात करूंगा। अब वहीं फैसला करेंगे। 


दोनों ने ग्राम-प्रधान के पास जा कर अपनी समस्या सुनाई। 

प्रधान:- तो यह है तुम दोनों की समस्या। यह तो बहुत आसान है। मैं हल कर दूंगा। चिंता ना करो। 


धर्मपाल को लगा कि अब वो जीत ही गया। उसको पता था कि वहीं गाय का असली मालिक है तो बस उसी का नाम सुनने के लिए इंतज़ार करता खड़ा रहा। 

प्रधान:- तुम दोनों गाय के दाय और बाय खड़े हो जाओ। 


दोनों इसी प्रकार गाय के आजु-बाजू खड़े हो गए। कुछ देर तक सब चुप-चाप थे अचानक से गाय अपनी जगह से हिली और मधु के पास आ कर खड़ी हो गयी। अतः ग्राम-प्रधान ने यह निर्णय लिया कि गाय मधु की ही है। क्योंकि उसी ने उसको प्यार दिया और उसका अच्छे से ख्याल रखा। 

प्रधान:- अब गइया ने अपना मालिक खुद चुना है तो मैं इसकी इच्छा ताल नहीं सकता। मधु ले जाओ अपनी गाय को। 


मधु बहुत खुश हो गया और गइया को अपने घर ले चला। धर्मपाल निराश हो कर पछताने लगा कि उसने गइया को पहले जाने ही क्यों दिया था। 


कहानी की सीख:- कठिन समय में अपने वरदान को ऐसे ही जाने ना दे। आपके पास जो है उसको हमेशा महत्व दे। 

Moral of this Panchatantra Short Story:- Do not let your boon go like this in difficult times. Always value what you have.


दोस्तों आपको हमारी पंचतंत्र शार्ट स्टोरीज इन हिंदी विथ मोरल कैसी लगी हमे कमेंट में ज़रूर बताइयेगा। इस कहानी को शेयर भी करना। 

धन्यवाद। 😊

Friends, Tell us how much you like our Panchatantra Short Stories In Hindi With Moral. Also, share this Hindi Short Stories to them who love to read Hindi Short Stories.

Thank You 😊

Post a Comment

Please do not enter any spam link in the comment box.