Hindi Short Stories

Hindi Short Stories 


Hello,
Today we are writing Hindi Short Stories. These Hindi Short Stories will help you in your life. These Hindi Short Stories are for everyone. No matter you are a kid, or elder, or parent or teacher. If you are a teacher so you can teach your students the same morals.
Have Fun!

नमस्कार,
आज हम Hindi Short Stories लिख रहे हैं। ये Hindi Short Stories आपके जीवन में आपकी मदद करेंगे। सत्य की ये नैतिक कहानियाँ हिंदी में सभी के लिए हैं। कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप एक बच्चे, या बड़े, या माता-पिता या शिक्षक हैं। यदि आप एक शिक्षक हैं तो आप अपने छात्रों को समान नैतिकता सिखा सकते हैं।
मज़े करो!


We are writing the Short Moral Stories in Hindi Here. ⬇️ 


  • The Truth Will Never Die Hindi Short Stories
  • Four Friends Hindi Short Stories
  • The truthfulness of a child Hindi Short Stories
  • Effect Of Truth Hindi Short Stories



The Truth Will Never Die - सच कभी नहीं मरता 
Hindi Short Stories  


Hindi Short Stories



एक बार एक धोबी था। जिसके पास एक कमज़ोर सा गधा था। वो काफी गरीब था इसलिए गधे को अच्छे से खाना नहीं खिला पता था। लेकिन गधे पर कपड़ो का बोझ बढ़ता जा रहा था। एक दिन गधे ने धोबी से शिकायत की। 

गधा:- मालिक, मैं अब और बोझ नहीं उठा सकता हुँ। जो खाना आप मुझे देते है, वो काफी नहीं है। आप मेरी मुसीबत कम कीजिये। 

धोबी:- देखो, तुम ये याद रखो कि तुम मेरे गुलाम हो और मैं मालिक हुँ। समझ गए। तुम मेरे सामने इस तरह अपनी मांगे नहीं रख सकते। 


धोबी ने गधे को डाट तो दिया लेकिन उसे उस पर दया नहीं आयी। वो गधे की परेशानी समझ सकता था। वो सोचता हुआ चला जा रहा था कि क्या करे। तभी उसे रास्ते में मरा हुआ बाग़ दिखाई दिया। तभी उसे एक तरकीब सूझी। उसने अपने गधे को बाग़ की खाल पहना दी। अब गधा बाग़ की तरह दिखने लगा। 

धोबी:- सुनो, तुमने कुछ दिन पहले मुझे अपनी परेशानी बताई थी। 

गधा:- मैं आपकी बात समझा नहीं मालिक। 

धोबी:- देखो, तुम समझना छोड़ो और पास ही के खेतो में चले जाओ और जितना दिल करे उतना खाओ। 

गधा:- मालिक, आपकी सलाह तो अच्छी है। लेकिन अगर मुझे कुछ हो गया तो ?

धोबी:- देखो, खतरा हर जगह है। तुम अगर यूँ दर गए तो जी ही नहीं पाओगे। 


धोबी ने गधे को मना लिया और उसे चरने भेज दिया। बाग़ की खाल पहन कर गधा खेतो में चला गया। ऐसे ही कई दिन बीत गए। खेतो के मालिक बाग़ से डरते थे और उन्हें समझ में नहीं आ रहा था कि क्या किया जाये। लेकिन कुछ ने सोचा की इसे पकड़ लेना चाहिए। एक दिन हमेशा की तरह गधा बाग़ की खाल पहन कर खेतो में आया। पास में ही एक और गधा चिल्ला रहा था। गधा ये भूल कर की वो बाग़ की खाल में है उसकी आवाज़ से आवाज़ मिलाने लगा। सबको पता चल गया कि ये बाग़ नहीं गधा है। सब वहाँ आ गए और गधे को पीट-पिट कर मार डाला। 

रात तक जब गधा वापिस नहीं आया तो धोबी गधे को ढूंढ़ने निकल पड़ा। उसने मरे हुए गधे को देखा और समझ गया कि क्या हुआ होगा। उसने सोचा कि अगर वो कहेगा कि ये गधा उसका है तो उसकी भी वहीं हालत होगी इसलिए वो वहाँ से लौट गया। 



कहानी की सीख़:- किसी का असली स्वभाव कभी नहीं बदलता। कोई किसी को धोखा दे या झूठ बोले तो वो सामने आ ही जाता है। 

Moral of this Moral Stories On Truth in Hindi:- Someone's true nature never changes. If someone cheats or tells a lie, he comes to the fore.






Four Friends - चार दोस्त 
Hindi Short Stories  

Hindi Short Stories



एक बार चार दोस्त थे। चारो को पढ़ाई करना बिलकुल पसंद नहीं था। चारो पूरी-पूरी रात पार्टी करते रहते थे। परीक्षा के पहले दिन भी वो पार्टी कर रहे थे और इसीलिए उन्होंने सोचा कि वो टीचर के पास जा कर उनसे झूठ बोलेंगे और परीक्षा बाद में कभी दे देंगे। पार्टी करने के बाद दूसरे ही दिन वो टीचर के पास गए और टीचर से झूठ बोलने लगे कि कल रात हम एक शादी में गए थे और शादी से घर लौटते समय हमारी गाडी का टायर पंचर हो गया। गाडी में एक्स्ट्रा टायर नहीं था इसलिए हमे गाडी को धक्का मारते-मारते घर तक ले कर आना पड़ा। 

हम कल रात इतना थक गए थे कि आज परीक्षा देने की हालत में नहीं है तो क्या हम परीक्षा बाद में दे सकते है ? टीचर ने उनकी बात सुनी और उनसे कहा कि तुम परीक्षा कल दे सकते हो। चारो ये सुन कर बहुत खुश हो गए और घर जा कर पढ़ाई करने लगे। 

दूसरे दिन चारों परीक्षा देने गए। टीचर ने उन्हें अलग-अलग क्लास में बैठाया। प्रशन-पत्र में सिर्फ दो ही प्रशन थे। 

पहला:- तुम्हारा नाम क्या है ?

दूसरा:- गाडी का कोनसा टायर पंचर हुआ था ?


चारो ने झूठ कहा था इसलिए चारो के उत्तर अलग-अलग थे। इस प्रकार से टीचर ने उनका झूठ पकड़ लिया। 


कहानी की सीख़:- झूठ बोलना बुरी बात है। 

Moral of this Moral Stories On Truth in Hindi:- It is a bad thing to lie.









The Truthfulness Of A Child - बालक की सच्चाई
Hindi Short Stories 



Hindi Short Stories



एक बालक था। उसका नाम था गोपाल। वह विद्यालय पढ़ता था। एक दिन कक्षा में अध्यापक ने बच्चों को एक गणित का प्रशन हल करने के लिए दिया। वह प्रशन हल नहीं कर सके। छुट्टी की घंटी बज गयी। अध्यापक ने वह प्रशन घर से हल कर के लाने के लिए कहा। सब बच्चे अपने-अपने घर चले गए। 

अगले दिन कक्षा में अध्यापक आये। उन्होंने बच्चो से अपनी-अपनी कॉपी दिखने को बोला। कुछ बच्चे तो गणित का वो प्रशन हल करके ही नहीं लाये और जो हल कर के लाये भी उनका उत्तर गलत था। अंत में गोपाल की बारी आयी। अध्यापक ने गोपाल की कॉपी ले कर उत्तर जाँचा तो वह उत्तर बिलकुल ठीक था। अध्यापक बहुत प्रसंन हुए। उन्होंने उसकी पीठ थप-थपाई और उसकी बहुत प्रशंसा की। 

अपनी प्रशंसा सुन कर गोपाल ज़रा भी खुश नहीं हुआ बल्कि उसके चेहरे पर उदासी छा गयी। वह सर नीचे कर के खड़ा रहा। जो-जो अध्यापक उसकी प्रशंसा करते। त्यों-त्यों उसकी उदासी बढ़ती जाती। अंत में वो फूट-फूट कर रोने लगा। 

अध्यापक को बहुत आश्चर्य हुआ उन्होंने गोपाल के कंधे पर हाथ रखते हुए कहा:-

अध्यापक:- बेटा, तुमने तो प्रशन को सही हल कर लिया है। फिर भला क्यों रो रहे हो ?

गोपाल:- गुरु जी, मैं प्रशंसा के लायक नहीं हुँ। ये प्रशन मैंने खुद हल नहीं किया है। इसे मैंने अपने मित्र से हल करवाया था। अपनी प्रशंसा सुन कर मुझे बड़ा दुःख हो रहा है। 


गोपाल की बात सुन कर अध्यापक का दिल भर आया। वो गोपाल की सच्चाई से बहुत प्रभावित हुए। उसकी प्रशंसा करते हुए बोले:- 

अध्यापक:- बेटा, तुम एक सच्चे बालक हो। तुम अवश्य ही देश का नाम रोशन करोगे। 


अध्यापक की बात सच निकली। यही बालक आगे चल कर गोपाल कृष्ण गोखले (Gopal Krishan Gokhle) के नाम से भारत का महान नेता बना। गोपाल कृष्ण गोखले (Gopal Krishan Gokhle) अपना पूरा जीवन देश की उन्नति के लिए समर्पित कर दिया। गांधी जी उन्हें अपना गुरु मानते थे और उनका बहुत आदर करते थे। 




The Truthfulness Of A Child - बालक की सच्चाई
Hindi Short Stories 


Hindi Short Stories



पुराने समय में एक खूंखार भयंकर डाकू था। वह लोगो को मारता, लूटता, डाके डालता और उनका धन लेता था। एक समय वो एक साधू से ही कुछ माँगने लगा, तो महारज ने पूछा 

महाराज:- तुम जो लूट कर धन लाते हो, उसे परिवार सारे सदस्य खाते है। उससे तुम्हे जो पाप लगता है, उसके पाप में भी तुम्हारे परिवार के सदस्य क्या हिस्सा लेंगे ? तुम आज अपने घर पर पूछ कर आना। 


डाकू घर गया और उसने सब से पूछा कि क्या तुम भी मेरे पाप के भागीदार बनोगे ? सबने मना कर दिया। उसने साधू से कहा 

डाकू:- स्वामी, मेरा डाका डालना तो नहीं छूट सकता इसलिए पाप काम करने के लिए मैं क्या करू ?

साधू:- तुम जो झूठ बोल कर पाप को बढ़ाते हो, उस पाप को घटाने के लिए झूठ बोलना छोड़ दो। 


उसने झूठ बोलना छोड़ दिया। अगले दिन वह राजमहल में चोरी करने गया। पहरेदार ने पूछा

पहरेदार:- कहाँ जा रहे हो ?

डाकू:- डाका डालने के लिए। 


पहरेदार ने मज़ाक समझ कर जाने दिया। जब वह संदूक लिए बाहर निकला। तो पहरेदार ने पूछा

पहरेदार:- किस चीज़ का संदूक ले कर जा रहे हो ?

डाकू:- हीरे का। 

पहरेदार:- किससे पूछ कर?

डाकू:- डाका दाल कर। 

पहरेदार:- चिढ़ते क्यों हो ? जाओ जाओ।


सुबह हुई तो पता चला कि हीरे का संदूक गायब हो गया है तो पहरेदार ने रात की सारी घटना बताई। राजा ने डाकू का पता लगवाकर उसे ज़िंदगीभर के लिए खर्च दे दिया और उसे नौकरी भी दे दी। जब डाकू के पास धन हो गया तो उसने डाके डालने की आदत छोड़ दी और वह साधू बन गया।

हम सबको भी यही लगता है कि झूठ के बिना हमारा काम नहीं चल सकता और हम व्यर्थ में ही झूठ बोलते है। कई बार फ़िज़ूल में मनोरंजन के लिए भी झूठ बोलते है। ध्यान रहे झूठ बोलना भी पाप है और ये छोटे-छोटे व्यर्थ ही पाप से बांधे गए कर्म हमे दुःख ही देंगे।



दोस्तों आपको हमारी हिंदी शार्ट स्टोरीज कैसी लगी हमे कमेंट में ज़रूर बताइयेगा। इस कहानी को शेयर भी करना। 

धन्यवाद। 😊


Friends, Tell us how much you like our Hindi Short Stories. Also, share this Hindi Short Stories to them who love to read Hindi Short Stories.


Thank You 😊


Also Read:- Hindi Moral Stories.

Post a Comment

Please do not enter any spam link in the comment box.